MEDICAL TOURISM AND INDIA

MEDICAL TOURISM AND INDIA

Medical tourism refers to people traveling abroad to obtain medical treatment.

MEDICAL TOURISM

In the past, this usually referred to those who traveled from less-developed countries to major medical centers in highly developed countries for treatment unavailable at home.

Nowadays, medical tourism equally refer to those from developed countries who travel to developing countries for lower-priced medical treatments.

Medical tourism most often is for surgeries(cosmetic or otherwise) or similar treatments, though people also travel for dental tourism or fertility tourism.

People with rare conditions may travel to countries where the treatment is better understood. However, almost all types of health care are available, including psychiatry, alternative medicine, convalescent care, and even burial services.

HEALTH TOURISM
Health tourism is a wider term for travel that focuses on medical treatments and the use of healthcare services.

It covers a wide field of health-oriented tourism ranging from preventive and health-conductive treatment to rehabilitational and curative forms of travel. Wellness tourism is a related field.

HISTORY

The first recorded instance of people travelling for medical treatment dates back thousands of years to when Greek pilgrims traveled from the eastern Mediterranean to a small area in the Saronic Gulfcalled Epidauria. This territory was the sanctuary of the healing god Asklepios.

Spa towns and sanitaria were early forms of medical tourism. In 18th-century Europe patients visited spas because they were places with supposedly health-giving mineral waters, treating diseases from gout to liver disorders and bronchitis.

MEDICAL TOURISM AND INDIA

Factors that have led to the increasing popularity of medical travel include the high cost of health care, long wait times for certain procedures, the ease and affordability of international travel, and improvements in both technology and standards of care in many countries.

The avoidance of waiting times is the leading factor for medical tourism from the UK, whereas in the US, the main reason is cheaper prices abroad. Furthermore, death rates even in the developed countries differ extremely, i.e. UK versus seven other leading countries, including the US.

India is the most prominent destination as per the Medical Tourism Market Report: 2015 due to highest quality treatment provided at the lowest cost. In Oct 2015, the value of Indian medical tourism was estimated to be $ 3 billion and it is expected to reach $ 7 -8 billion by 2020.

As per the CII-Grant Thornton report released in October-2015, 34% of medical tourist are from Bangladesh and Afghanistan, 30 % are from Russia and Commonwealth of Independent States and remaining from Africa and Middle East

Factors attracting medical tourist to India:


Medical tourism is growing by 30% each year. Chennai is named as the “Health Capital of India”, as it attracts 45% of medical tourist due to number of multi and super-specialty hospitals. It is estimated that Chennai has approximately 150 international patients every day. The various factors which attract medical tourist to India are:

1) Cost:


India provides the highest quality healthcare at the lowest price. The cost of treatment in India is one-tenth the cost of same treatment in US/UK. For example, Heart Bypass cost approximately $ 123,000 in US and whereas in India it cost approximately $7900.

2) Quality


India provides treatment of high quality using the latest technology and technique. India has 28 JCI accredited hospitals.

3) Waiting time:


In developed countries like US, UK and Canada patients have to wait for major surgeries. India has no waiting time or very less waiting time for surgeries.

4) Language:


Despite linguistic diversity in India, English is considered as an official language. Due to which communication becomes easy with foreign patients as it is an international language.

5) Travel:


Government of India, the Ministry of Health and Family Welfare and the Ministry of Tourist are working hard to make India a more prominent medical destination. For this purpose, medical visa (M-visa) has been introduced, which allows a medical tourist to be in India for a specific period. Apart from this, visa on arrival is granted for citizens from few countries, which allows them to stay in India for 30 days

Way forward for India for medical tourism for growth

Medical tourism is a competitive sector. In order to attract medical tourist, following things should be done:

1. Invest in technology:


Medical tourists get attracted to world class healthcare facilities. You need to invest wisely in providing best practices and facilities. The cost for it depends on the type of facility being provided. For increasing accessibility, create an app for your hospital or clinic; it will cost approximately 5 lakhs.

2. Have a strong online presence:


Online marketing is very important in medical tourism. You need to maintain a user-friendly and easy-to-understand website and blog. The cost of maintaining a CMS website is approximately 15,000 rupees and a blog page will cost you approximately 500 rupees per year for domain name and hosting. Answer queries; keep live chat option to be accessible all time. Live chat cost approximately 1200 rupees per month. Be active on social media like Facebook, LinkedIn etc. Facebook has an option of promoting page and it can cost you 17.44 to 36.8 rupees per like.

3. Collaborate:


Medical tourism is a team effort. You need to invest for collaborating with hospitality partners, representatives of international health office, etc.

Additional service to attract medical tourist:


Apart from quality healthcare, medical tourists should be provided with other services in order to make their travel and stay comfortable. Additional services to be provided for medical tourists are:

1. Quotation Assistance:


Quotation is a primary concern for a medical tourist. Physicians should make an approximate quotation based upon the medical intervention and hospital stay required.

2. Visa Assistance:


Visa invitation letter is needed for applying medical visa to India. Upon receiving the required details such as passport number, visa invitation letter should be issued for prospective foreign patient.

3. Collaborate:


Medical tourism is a team effort. You need to invest for collaborating with hospitality partners, representatives of international health office, etc.

3. Accommodation service:


Comfort is very important, invest in it. Rooms for international patients should be spacious and have 24*7 room service, laundry service, internet, AC, TV and meals facility. Collaborate with a travel agency, five-star hotels, guest house, etc. in order to ensure comfort.

4. Interpretation service:


The staff hired for international patients should be fluent in speaking English. In case of non-English speaking patients, translators should be hired. Pay scale for translators is approximately 4.2 lakh p.a.

5. Security service:

Safety cannot be compromised. Sufficient investment must be done for hiring efficient man power and using latest technology.

SIMPLE STEPS FOR WEIGHT LOSS – LOCKDOWN STORY 2020

SIMPLE STEPS FOR WEIGHT LOSS – MY LOCKDOWN STORY 2020

Weight loss therapy

Overweight became common problem for health and beauty as well today

OVERWEIGHT AND OBESITY

Overweight and obesity are defined as abnormal or excessive fat accumulation that may impair health.

;

Woman are more conscious for overweight and obesity

For beauty conscious women obesity is main issue. Woman body consists of more fat than man. For beauty conscious women body physique is a major issue than any other.

For maintaining body figure and beauty woman try many experiment like dietary foods, aerobic are  some well known.

In this fast and busy life every man and woman have no time for excercise, so they try shortcut by taking dietary foods to lose weight.

Some MLM company products has main role in this. Products of this company is very expensive for business purpose. Company main focus is a network marketing.

Such companies some products contain some habitat ingredients because of which person became habitat with products.

Exercise for weight loss is not possible for everyone is due to busy life schedule and short of the time.

My story how I lose my weight from 75 kg to 65 kg during lockdown period of covid-19 pandemic.

To lighten the darkness just one ray of light enough. In that way lockdown period bought positive impact on my body by loosing weight from 75 to 65 kg.

Before lockdown in India my weight was 75 kg. This is cause of concern for me. Because overweight gives invitation to many disease likes heart problems, liver problems, etc..

As per body mass index (BMI) my age should be in the range of 60 -65 kg.

My plan to lose weight –

1. Subconscious mind positive message –


My subconscious mind plays important role in it.
First I gave positive massage to my mind that my weight is 65 kg not 75 Kg.. Then I started my journey to lose my weight my destination was 65 kg.

2. 20 minutes simple exercise –
When exercise word in front of anyone they picturize a heavy exercise or Jeam. But because of heavy exercise your body demand heavy foods. As increase in demand we eat heavy diet to fulfill demand.

But may result in weight gain if digestion is not proper.
So, I decided to do some simple exercise.

Exercise
A. Walking – walking is simple, and easily follow exercise. I went walking for 10, minutes every morning.
Walking is warm exercise for me which made me fully energized.


B. Sun salutation ( सुर्य नमस्कार)

सूर्य नमस्कार

Sun salutation in simplest form of yoga which help in weight loss.

3. Simple diet


A. Drink black or green tea is Very helpful in weight loss.

Green tea with trikatu churn is immunity booster to fight against Corona.
So, it worked as weight loss as well as a immunity build up.

B. Eating simple food in lunch


I took simple Indian traditional food in lunch like Dakota, rice, subj and salad  which kept me energized for whole day.

In dinner, I took food just to calm my appetite.
I mainly focus on light food like rise and daliya.

तनाव और स्वास्थ्य

तनाव और स्वास्थ्य

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव और स्वास्थ्य संतुलन एक आम समस्या बन चुका है। छोटे से लेकर बड़े तक, आज हर तीसरा व्यक्ति इस समस्या से जूझ रहा है।

तनाव की स्थिति तब होती है, जब हम दवाब लेने लगते हैं और जीवन के हर पहलू पर नकारात्मक रूप से सोचने लगते हैं। यह समस्या शारीरिक रूप से कमजोर करने के साथ-साथ भावनात्मक रूप से भी आहत करती है।

इससे ग्रस्त व्यक्ति न तो ठीक से काम कर पाता है और न ही अपने जीवन का खुलकर आनंद उठा पाता है।

कार्यशैली और संबंधों पर बुरा असर पड़ने के चलते उसमें जीने की इच्छा भी खत्म हो जाती है। जाहिर है कि तनाव में रहने वाले अधिकतर लोग आत्महत्या की ओर कदम बढ़ा लेते हैं।

तनाव और स्वास्थ्य


यूं तो मनुष्य का उदास या निराश होना स्वाभाविक है, लेकिन जब ये एहसास काफी लंबे समय तक बना रहे तो समझ जाइए कि वो तनाव की स्थिति में है।

यह एक ऐसा मानसिक विकार है, जिसमें व्यक्ति को कुछ भी अच्छा नहीं लगता। उसे अपना जीवन नीरस, खाली-खाली और दुखों से भरा लगता है।

प्रत्येक व्यक्ति को अलग-अलग कारणों  से तनाव हो सकता है। किसी बात या काम का अत्यधिक दवाब लेने से यह समस्या पैदा हो जाती है। 

महिलाएं अधिक हैं तनाव की शिकार


तनाव पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। बदलते सामाजिक परिवेश में महिलाएं बड़े पैमाने पर तनाव की शिकार हो रही हैं। इनमें कामकाजी महिलाओं की तादाद सबसे अधिक है।

जहां घरेलू महिलाओं को घर के माहौल से तनाव होता है, वहीं कामकाजी महिलाएं घरेलू व बाहरी दोनों कारणों से तनाव की शिकार हो रही हैं।

तनाव के मुख्य कारण


1.करियर में ग्रोथ न होना।
2.ऑफिस के कार्यभार व जिम्मेदारियों की अधिकता।
3. वैवाहिक, प्रेम और पारिवारिक संबंधों में दरार आना।
4.वजन तेजी से घटना या बढ़ना।
5.आर्थिक परेशानी।
6. पुरानी या गंभीर बीमारी की वजह से।
7.मादक पदाथार्ें का अत्यधिक सेवन करना।
8. किसी काम के लिए न नहीं कह पाना।
9. साधारण-सी बीमारी के लिए दवा का प्रयोग करना।

तनाव के लक्षण


1. नींद न आना।
2.ब्लड प्रेशर बढ़ना।
3. थका हुआ महसूस करना।
4.खाना ठीक से न पचना।
5.खराब स्वास्थ्य।
6.दिल तेजी से धड़कना।
7.सिरदर्द।
8. इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर होना।
9.आत्महत्या की सूझना।
10.निराशा।
11.किसी भी काम में मन न लगना।
12. छोटी-सी बात पर गुस्सा आना या आक्रामक हो जाना।
13.चिड़चिड़ापन।

अक्सर देखा गया है की तनाव में लोग ज्यादा खाना खाते हैं। जिसके कारण वजन बढ़ने का खतरा होता है। ज्यादा वजन याने अन्य बीमारी को आमंत्रण।

इससे छुटकारा कैसे पाएं?

1. पर्याप्त पानी पिएं।
2.दोस्तों से बात करें और आराम करें।
3.इसके अलावा आप किसी एक्टिविटी में भी हिस्सा ले सकते हैं, जिससे इस दौरान अतिरिक्त कैलरी लेने से बच सकते हैं।


4.तनाव से निजात पाने के लिए सबसे पहले अपनी जीवनशैली में बदलाव लाएं। 
5.मेडिटेशन और योग करें। यह मानसिक और शारीरिक रूप से भी आपको पूरी तरह स्वस्थ रखेगा। 


6. खुशमिजाज और सकारात्मक सोच वाले लोगों के साथ रहें। नकारात्मक लोगों के साथ उठने-बैठने से बचें, क्योंकि उससे आप भी नकारात्मक हो सकते हैं।
7.भरपूर नींद लें, लेकिन जरूरत से ज्याद न सोएं। सोने और सुबह उठने का एक समय निश्चित करें।


8. बेवजह की बातों पर सोच-विचार या बहस न करें। इससे तनाव और भी बढ़ जाता है।
9.अपनी परेशानियों को दोस्तों और परिवार के साथ साझा करें। इससे आपकी तकलीफें कम होंगी।


10. तनाव की स्थिति में जंक और ऑयली फूड न खाएं। केवल पौष्टिक और संतुलित आहार ही लें।
11. राहत भरा संगीत सुनें। तनाव होने पर तेज ध्वनि वाला संगीत नहीं सुनना चाहिए।


12.धूम्रपान और शराब का सेवन बिल्कुल न करें। इनके सेवन से आपको कुछ देर के लिए राहत महसूस हो सकती है, लेकिन बाद में आपकी परेशानी दोगुनी बढ़ जाएगी।
13.हर वक्त मोबाइल, टीवी और लैपटॉप जैसे गैजेट से चिपके न रहें।


14.शारीरिक क्षमता से अधिक काम बिल्कुल भी न करें। घंटों काम में लगे रहने से तनाव की स्थिति पैदा होती है।
15.समस्याओं के बारे में सोचने के बजाय उनका समाधान निकालने की कोशिश करें।


16. किसी हिल स्टेशन पर जाएं। यहां प्राकृतिक खूबसरती के बीच शांति और सुकून मिलेगा। खुली और शुद्ध हवा में सांस लेने से मन-मस्तिष्क दुरुस्त होते हैं।
17.कुछ नया और रचनात्मक सीखें।


18. हेड मसाज, सोना या स्टीम बाथ लें। इससे दिमाग को राहत मिलेगी।

इसका सेवन करें – तनाव और स्वास्थ्य््


विटामिन-सी से भरपूर फल खाएं।
हरे पत्तेदार सब्जियां खाएं।
काजू और भिगोए हुए बादाम खाएं।
हर्बल टी पिएं।
डार्क चॉकलेट खाएं।
ओटमील खाएं।

इससे बचें


ऑयली चीजों और जंक फूड से बचें।
कैफीन का सेवन न करें।
शुगर का इस्तेमाल कम से कम करें।
चिप्स को नजरअंदाज करें।

तनाव और स्वास्थ्य मैं संतुलन बना कर रखना ही तनाव से बचने का एकमात्र उपाय है।

तनाव और स्वास्थ्य

जरूरत पड़ने पर डॉक्टर या मनोवैज्ञानिक की सलाह ले।

PREVENTIVE STEPS TO STAY AWAY FROM CORONA IN HOME QUARANTINE

PREVENTIVE STEPS TO STAY AWAY FROM CORONA IN HOME QUARANTINE

PREVENTIVE STEPS TO STAY AWAY FROM CORONA IN  HOME QUARANTINE

1. Clean your hands often. Use soap and water, or an alcohol-based hand rub.

2. Maintain a safe distance from anyone who is coughing or sneezing.

3. Don’t touch your eyes, nose or mouth.

4. Cover your nose and mouth with your bent elbow or a tissue when you cough or sneeze.

5. Stay home if you feel unwell.

3. If you have a fever, cough and difficulty breathing, seek medical attention. Call in advance.

Follow the directions of your local health authority.

Avoiding unneeded visits to medical facilities allows healthcare systems to operate more effectively, therefore, protecting you and others.

PREVENTION IS BETTER THAN CURE.

PREVENTIVE STEPS TO STAY AWAY FROM CORONA

There is one famous quote in the medical language prevention is better than cure.

Some medicinal remedy
1. Corona infection pathogenesis start from throat infection, so, it is necessary to clear throat infection.
Gargle with warm water half glass with 1 spoon rock salt and few amounts of turmeric powder in it twice a day.

2. Try some Ayurvedic medicine for prevention PREVENTIVE STEPS TO STAY AWAY FROM CORONA

A. Trikatu churn
Make syrap with trikatu churn. Take half of small spoon in two cup water with some tulsi leafes in it . This dose is for single person.

Make it boil till it left one cup.  Drink this syrap twice a day for Seven days in half full stomach.
As it is very hot take it as per your physician suggest.

B. Samshamni vati
Take 2 tab. At a time twice daily for Sevan days or as directed by physicians.
Single tab for child.

3. Do yoga for 30 minutes.

There are no confirm treatment for covid-19, but we can prevent it

As there are some relaxation in lockdown, people trying to migrate from one place to another.
To find way for their home town. Because of this there is a chance to increase CORONA.

To prevent this scenario migrating people must follow this some simple steps for their, and their family safety.



PREVENTIVE STEPS TO STAY AWAY FROM CORONA








प्रतिबंधात्मक दवा – COVID -19 के लिए सुरक्षित रहिए!

कोरोनावायरस-19 की प्रतिबंधात्मक दवा

त्रिकाटु चुरण

संशमणी वटी

Arsenicum albam

कोरोनावायरस ने आज पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है। पूरी दुनिया आज कोरोनावायरस से लड़ रही है दिनों दिन मौत के आंकड़े और संक्रमित आंकड़े बढ़ते जा रहे हैं यह एक चिंता का विषय बना हुआ है।
पूरी दुनिया कोरोनावायरस के सामने नतमस्तक हो गई है। इसके कारण लोग अपने घर में ही बंधक बने हुए हैं।


भारत में 21 मार्च से लॉक डाउन चल रहा है ऐसे में ही संक्रमण और मौत के बढ़ते हुए आंकड़े एक चिंता का विषय है। कोरोनावायरस संक्रमण का पक्का इलाज अभी नहीं मिला है लेकिन इस पर हर संभव कोशिश जारी है और खोज जारी है लगता है कुछ ही दिनों में इसका सकारात्मक इलाज मिल जाएगा। लेकिन कोरोनावायरस पर प्रतिबंधात्मक दवा है, जिसका उपयोग हम हमारी रोग प्रतिकारक शक्ति बढ़ा सकते हैं।

अंग्रेजी में एक कहावत है prevention is better than cure इसका मतलब होता है रोकथाम इलाज से बेहतर है।

इसी को प्रमाण मानकर भारत में मध्य प्रदेश राज्य के बैतूल जिले में आयुष विभाग द्वारा केंद्र और राज्य सरकार के निर्देश पर एक अभियान चलाया गया जिसमें आयुष डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मी को घर-घर तक जाकर कोरोनावायरस की प्रतिबंधात्मक दवा बांट रहे हैं। इसका सकारात्मक नतीजा अब दिख रहा है जो कि बैतूल जिला कोरोनावायरस संक्रमण से अछूता है लगभग को रोना मुक्त है।

कोरोनावायरस-19 की प्रतिबंधात्मक दवा

त्रिकटु चुरण ( trikatu churn)

समशमणी वटी (samshamni vati)

त्रिकटु चुरण ( trikatu churn) –

इसका काढ़ा बनाकर सबको पीना है। एक व्यक्ति के लिए आधा चम्मच त्रिकटु चूर्ण लेवे और उससे दो कप पानी में उबालें। उबले तक जब यह पानी एक कब बन जाएगा तो इस काढ़े को सुबह शाम खाने के कुछ देर बाद लेना है और ऐसा 7 दिनों तक करना है। यह काढा थोड़ा गर्म होता है इसलिए प्रत्येक व्यक्ति ने अपने सहनशक्ति के बराबर इसका उपयोग करना है।

लाभ

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने के साथ ही श्वसन तंत्र से जुड़े रोग, अस्थमा, खांसी, सर्दी, जुकाम, नाक से पानी आना, भूख न लगना, सांस लेने में तकलीफ, स्वर भंग (गला बैठना) आदि रोगों में लाभ होता है। 

इनको हो सकता है नुकसान

गर्म तासीर वाले लोग, नाक में खून आना (नकसीर) उच्च रक्तचाप, पाइल्स, पेप्टिक अल्सर, अत्यधिक पसीना आना इत्यादि समस्याएं हैं तो इस चूर्ण या काढ़े का सेवन करने से बचें। 

प्रतिबंधात्मक दवा – त्रिकाटु चुरण

संशमणी वटी

इसकी दो दो गोलियां एक व्यक्ति ने और एक-एक गोली छोटे बच्चों ने सुबह शाम लेना है खाना खाने के बाद 7 दिन तक इसके कारण रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ने में मदद होगी और कोरोना से लड़ने में भी मदद होगी।

होम्योपैथिक दवा

Arsenicum album 30

यह दवा खाने से व्यक्ति की रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ती है जिसके कारण को रोना का संक्रमण होने का डर नहीं होता।

इसके साथ आधी ग्लास गुनगुने पानी में एक चम्मच सेंधा नमक और थोड़ी हल्दी मिलाकर सुबह-शाम गरारे करना है।

यह अभियान पूरे मध्यप्रदेश में पिछले 1 महीने से चल रहा है, इसका सकारात्मक नतीजा सामने आ रहा है।

Continue reading प्रतिबंधात्मक दवा – COVID -19 के लिए सुरक्षित रहिए!

गिलोय के फायदे – स्वास्थ्य का अमृत

गिलोय के फायदे – स्वास्थ्य का अमृत

गिलोय (tinospora cordifolia) की एक बहुवर्षिय लता होती है। इसके पत्ते पान के पत्ते की तरह होते हैं। आयुर्वेद में इसको कई नामों से जाना जाता है यथा अमृता, गुडुची, छिन्नरुहा, चक्रांगी, आदि। ‘बहुवर्षायु तथा अमृत के समान गुणकारी होने से इसका नाम अमृता है।’  साहित्य में इसे ज्वर की महान औषधि माना गया है एवं जीवन्तिका नाम दिया गया है। गिलोय की लता जंगलों, खेतों की मेड़ों, पहाड़ों की चट्टानों आदि स्थानों पर सामान्यतः कुण्डलाकार चढ़ती पाई जाती है। नीम, आम्र के वृक्ष के आस-पास भी यह मिलती है। जिस वृक्ष को यह अपना आधार बनाती है, उसके गुण भी इसमें समाहित रहते हैं। इस दृष्टि से नीम पर चढ़ी गिलोय श्रेष्ठ औषधि मानी जाती है। इसका काण्ड छोटी अंगुली से लेकर अंगूठे जितना मोटा होता है। बहुत पुरानी गिलोय में यह बाहु जैसा मोटा भी हो सकता है। इसमें से स्थान-स्थान पर जड़ें निकलकर नीचे की ओर झूलती रहती हैं। चट्टानों अथवा खेतों की मेड़ों पर जड़ें जमीन में घुसकर अन्य लताओं को जन्म देती हैं।

हो सकता है आपने गिलोय की बेल देखी हो लेकिन जानकारी अभाव में उसे पहचान नहीं पाए हों. गिलोय बेल के रूप में बढ़ती है और इसकी पत्त‍ियां पान के पत्ते की तरह होती हैं. गिलोय की पत्त‍ियों में कैल्शि‍यम, प्रोटीन, फॉस्फोरस पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है. इसके अलावा इसके तनों में स्टार्च की भी अच्छी मात्रा होती है.

गिलोय का इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों में किया जाता है. ये एक बेहतरीन पावर ड्रिंक भी है. ये इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने का काम करता है, जिसकी वजह से कई तरह की बीमारियों से सुरक्षा मिलती है.

गिलोय के फायदे –

 1.अगर आपको एनीमिया है तो गिलोय के पत्तों का इस्तेमाल करना आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा. गिलोय  खून की कमी दूर करने में सहायक है. इसे घी और शहद के साथ मिलाकर लेने से खून की कमी दूर होती है.

2. पीलिया के मरीजों के लिए गिलोय लेना बहुत ही फायदेमंद है. कुछ लोग इसे चूर्ण के रूप में लेते हैं तो कुछ इसकी पत्त‍ियों को पानी में उबालकर पीते हैं. अगर आप चाहें तो गिलोय की पत्त‍ियों को पीसकर शहद के साथ मिलाकर भी ले सकते हैं. इससे पीलिया में फायदा होता है और मरीज जल्दी स्वस्थ हो जाता है.

3. कुछ लोगों को पैरों में बहुत जलन होती है. कुछ ऐसे भी होते हैं जिनकी हथेलियां हमेशा गर्म बनी रहती हैं. ऐसे लोगों के लिए गिलोय बहुत फायदेमंद है. गिलोय की पत्त‍ियों को पीसकर उसका पेस्ट तैयार कर लें और उसे सुबह-शाम पैरों पर और हथेलियों पर लगाएं. अगर आप चाहें तो गिलोय की पत्त‍ियों का काढ़ा भी पी सकते हैं. इससे भी फायदा होगा.

.अगर आपके कान में दर्द है तो भी गिलोय की पत्त‍ियों का रस निकाल लें. इसे हल्का गुनगुना कर लें. इसकी एक-दो बूंद कान में डालें. इससे कान का दर्द ठीक हो जाएगा.

5. पेट से जुड़ी कई बीमारियों में गिलोय का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है. इससे कब्ज और गैस की प्रॉब्लम नहीं होती है और पाचन क्रिया भी दुरुस्त रहती है.

6. गिलोय का इस्तेमाल बुखार दूर करने के लिए भी किया जाता है. अगर बहुत दिनों से बुखार है और तापमान कम नहीं हो रहा है तो गिलोय की पत्त‍ियों का काढ़ा पीना फायदेमंद रहेगा. यूं तो गिलोय पूरी तरह सुरक्षि‍त है फिर भी एक बार डॉक्टर से परामर्श जरूर ले लें. 

RAISE FUNDS ONLINE FOR MEDICAL HELP 2020 – NO LIFE EVER LOST WITHOUT MEDICAL HELP

RAISE FUNDS ONLINE FOR MEDICAL HELP 2020 – NO LIFE EVER LOST WITHOUT MEDICAL HELP

Thousand fight for their live from fatal disease and unforeseen medical emergencies everyday.

Raise fund online f

Family are open left drained all their savings due to insufficient insurance coverage and forced to take loan at higher interest rate.

Many also have to risk delaying for stopping treatment due to lack of funds

.

Medical help

Medical crowdfunding helps you to raise fund for medical emergency in time when you really need it.

https://www.impactguru.com/medical-crowdfunding

https://www.ketto.org/?utm_source=external_Ketto&utm_medium=google-search&utm_campaign=S14_1000_SALE_Brand_KY_ALL_CLK_IND&utm_term=e_ketto&utm_content=homepage_new_ad1&utm_placement=KT01_AG_1865_BrandSeed_Pure&gclid=Cj0KCQiAno_uBRC1ARIsAB496IW_PPLNq_aFhsVAKMhWCoqKGHKywWyugADcF3_acwjReqpuPcACUqEaArKzEALw_wcB

This link redirect you on site

Here are some top site for crowdfunding

https://www.foxbusiness.com/features/5-crowdfunding-websites-to-help-pay-off-medical-bills

This site for medical crowdfunding with Bear your medical expenses with the help of million donar step-up generously to support friend family and stranger with contribution

Medical crowdfunding is the bridge between donors and people who need fund for medical treatment.

Images from Google & Shutterstock