प्रतिबंधात्मक दवा – COVID -19 के लिए सुरक्षित रहिए!

Spread the love

कोरोनावायरस-19 की प्रतिबंधात्मक दवा

त्रिकाटु चुरण

संशमणी वटी

Arsenicum albam

कोरोनावायरस ने आज पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है। पूरी दुनिया आज कोरोनावायरस से लड़ रही है दिनों दिन मौत के आंकड़े और संक्रमित आंकड़े बढ़ते जा रहे हैं यह एक चिंता का विषय बना हुआ है।
पूरी दुनिया कोरोनावायरस के सामने नतमस्तक हो गई है। इसके कारण लोग अपने घर में ही बंधक बने हुए हैं।


भारत में 21 मार्च से लॉक डाउन चल रहा है ऐसे में ही संक्रमण और मौत के बढ़ते हुए आंकड़े एक चिंता का विषय है। कोरोनावायरस संक्रमण का पक्का इलाज अभी नहीं मिला है लेकिन इस पर हर संभव कोशिश जारी है और खोज जारी है लगता है कुछ ही दिनों में इसका सकारात्मक इलाज मिल जाएगा। लेकिन कोरोनावायरस पर प्रतिबंधात्मक दवा है, जिसका उपयोग हम हमारी रोग प्रतिकारक शक्ति बढ़ा सकते हैं।

अंग्रेजी में एक कहावत है prevention is better than cure इसका मतलब होता है रोकथाम इलाज से बेहतर है।

इसी को प्रमाण मानकर भारत में मध्य प्रदेश राज्य के बैतूल जिले में आयुष विभाग द्वारा केंद्र और राज्य सरकार के निर्देश पर एक अभियान चलाया गया जिसमें आयुष डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मी को घर-घर तक जाकर कोरोनावायरस की प्रतिबंधात्मक दवा बांट रहे हैं। इसका सकारात्मक नतीजा अब दिख रहा है जो कि बैतूल जिला कोरोनावायरस संक्रमण से अछूता है लगभग को रोना मुक्त है।

कोरोनावायरस-19 की प्रतिबंधात्मक दवा

त्रिकटु चुरण ( trikatu churn)

समशमणी वटी (samshamni vati)

त्रिकटु चुरण ( trikatu churn) –

इसका काढ़ा बनाकर सबको पीना है। एक व्यक्ति के लिए आधा चम्मच त्रिकटु चूर्ण लेवे और उससे दो कप पानी में उबालें। उबले तक जब यह पानी एक कब बन जाएगा तो इस काढ़े को सुबह शाम खाने के कुछ देर बाद लेना है और ऐसा 7 दिनों तक करना है। यह काढा थोड़ा गर्म होता है इसलिए प्रत्येक व्यक्ति ने अपने सहनशक्ति के बराबर इसका उपयोग करना है।

लाभ

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने के साथ ही श्वसन तंत्र से जुड़े रोग, अस्थमा, खांसी, सर्दी, जुकाम, नाक से पानी आना, भूख न लगना, सांस लेने में तकलीफ, स्वर भंग (गला बैठना) आदि रोगों में लाभ होता है। 

इनको हो सकता है नुकसान

गर्म तासीर वाले लोग, नाक में खून आना (नकसीर) उच्च रक्तचाप, पाइल्स, पेप्टिक अल्सर, अत्यधिक पसीना आना इत्यादि समस्याएं हैं तो इस चूर्ण या काढ़े का सेवन करने से बचें। 

प्रतिबंधात्मक दवा – त्रिकाटु चुरण

संशमणी वटी

इसकी दो दो गोलियां एक व्यक्ति ने और एक-एक गोली छोटे बच्चों ने सुबह शाम लेना है खाना खाने के बाद 7 दिन तक इसके कारण रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ने में मदद होगी और कोरोना से लड़ने में भी मदद होगी।

होम्योपैथिक दवा

Arsenicum album 30

यह दवा खाने से व्यक्ति की रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ती है जिसके कारण को रोना का संक्रमण होने का डर नहीं होता।

इसके साथ आधी ग्लास गुनगुने पानी में एक चम्मच सेंधा नमक और थोड़ी हल्दी मिलाकर सुबह-शाम गरारे करना है।

यह अभियान पूरे मध्यप्रदेश में पिछले 1 महीने से चल रहा है, इसका सकारात्मक नतीजा सामने आ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *