नूडल्स का आविष्कार 1956

नूडल्स का अविष्कार एक दंतकथा है जिसके कारण इसका आविष्कार करने वाला आदमी भविष्य में बहुत बड़ा उद्यमी बन गया।

बात उन दिनों की है जब अमेरिका ने जापान पर परमाणु बम गिराया था. ये जापान का बहुत ही बुरा दौर था. जापान इस हमले के चलते एक शक्तिशाली औद्योगिक साम्राज्य की जगह पर एक रेडियोधर्मी खंडर में तब्दील हो रहा था. मुश्किल की इस घड़ी में जापान की सरकार के सामने लाखों लोगों का पेट भरने की समस्या मुंह बाए खड़ी थी.

इस हमले के एक सप्ताह बाद अमेरिका को अपनी भूल का एहसास हुआ. उसने जापान को भुखमरी से निपटने के लिए उनके लिए भारी मात्रा में आटा भेजा. उन्होंने सोचा था कि वो इससे ब्रेड बनाकर अपने देशवासियों की भूख मिटा सकेंगे. मगर जापान के लोग बड़ी तादाद में ब्रेड बनाना नहीं जानते थे.

अच्छी बात ये थी कि वो इससे नूडल्स बनाने में माहिर थे. मगर नूडल्स की सबसे बड़ी कमी ये थी इसे बनाने में काफ़ी समय लगता था. एक दिन ऐसे ही कड़ाके की ठंड में Momofuku Ando नाम के एक शख़्स ने लोगों को नूडल्स के लिए लाइन में खड़े देखा. तब उन्होंने महसूस किया कि एक कप नूडल्स के लिए लोग इतनी देर तक क्यों खड़े रहें. कुछ ऐसा किया जाना चाहिए कि उनका पेट भी भर जाए और वक़्त भी कम लगे.

उन्होंने नूडल्स पर एक्पेरिमेंट करने शुरू कर दिए. एक दिन वो इंस्टेंट तैयार हो जाने वाले नूडल्स खोजने में कामयाब हो गए. ये नूडल्स तैयार करने के बाद सुखाए जाते थे. इनको बाद में बस गर्म पानी मिलाकर दो मिनट में खाने के लिए परोसा जा सकता था. इनके द्वारा बनाए गए चिकन नूडल्स को तो लोगों को ये नूडल्स इतने पसंद आए कि हर घर में यही पकाए जाने लगे और लोगों ने इन्हें अपने भोजन का हिस्सा बना लिया.

ये नूडल्स लोगों को बहुत पसंद आए और देखते ही देखते ये जापान से निकलकर पूरी दुनिया में फ़ेमस हो गए. इनकी बदौलत Ando भी एक अमीर व्यक्ति बन गए. इंस्टेंट नूडल्स आज दुनिया के कोने-कोने में खाए जाते हैं. आजकल की भागदौड़ भरी ज़िंदगी में किसी सेवियर से कम नहीं हैं ये इंस्टेंट नूडल्स.

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद जापान में खाने का भारी संकट गहराया हुआ था। लोग अन्न के एक-एक दाने के लिए लंबी कतार लगाकर खड़े थे। ऐसे में जापानी स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी कह दिया था कि देश में लोगों की खाद्य आपूर्ति के लिए कुछ नहीं है।

इस स्थिति में जापान के एक नागरिक मोमोफुकू एंडो ने नूडल्स बनाने का प्रयोग किया। उनके प्रयोग के बाद इंस्टेंट नूडल्स गरम पानी में उबालते ही तैयार हो गए, और ऐसे हुआ नूडल का आविष्कार।

अविष्कार

मोमोफुकू के इस आविष्कार ने उनकी जिंदगी बदल दी और उन्होंने निसिन फूड इंटरनेशनल नाम की एक बहुत बड़ी कंपनी बनाई।

इस सफल प्रयोग के बाद मोमोफुकू इंस्टेंट नूडल्स के इन्वेंटर के तौर पर प्रसिद्ध हो गए। लोगों के खाने की जरूरत को पूरा करने के लिए मोमोफुकू ने निसिन फूड्स की स्थापना की। जिसका मकसद था जापान में उपजी भुखमरी को समाप्त करना।

1970 के दशक में यह पूरी दुनियां में तब मशहूर हो गए, जब यह कप नूडल्स के तौर पर आए।

आज निसिन फूड्स एक इंटरनेशनल ब्रांड है जिसके टॉप रेमेन नूडल्स और कप नूडल्स की दुनियां भर में डिमांड है। 

कस्टमर्स की जरुरत को पूरा करने के लिए आज भी ये लगातार इनोवेशन करते रहते हैं। आज के समय में 7500 से भी अधिक एम्प्लॉई इस कंपनी में काम करते हैं।

TEST CRICKET HIGHEST PARTNERSHIP 634 RUNS

TEST CRICKET RECORD PARTNERSHIP

634 runs partnership is the highest partnership so far in cricket history.

Mahela jayawardene and Kumar Sangakkara together made 634 runs partnership in South Africa


Sri Lankan classical batsman Kumar Sangakkara AND mahela Jayawardene together achieved this milestone against South Africa in first test match played during 27-31 July 2006 at Colombo in Sri Lanka.
Sangakkara contributed 287 runs while Jayawardene collected 374 runs in the same.

Sri Lanka won this match by an innings and 153 runs


This record untouched so far.

QUICK BUSINESS IDEAS FOR ONLINE EARNINGS 2020

QUICK BUSINESS IDEAS – EASY, BRIEF, AND SIMPLE


There are many ways of doing business, ideas is different for different business. But final aim of all businesses is to generate revenue and earn profit.
We are discussing some simple ways of business in brief.
This business not required any infrastructure, manpower and big money like other.
You can build it on your knowledge and skills.
Some ideas are as below.

  1. Quora partner program –


Quora is questions and answers platform where you can ask questions and answers questions.
Details you can find here

Business ideas quora

Quora partner program guide


Earn money by asking questions/

2. PEER TO PEER  LENDING –


If want to earn money from your money then allow your money to grow. You can earn money by lending your own money online and earn monthly income from it

Earnings from peer to peer lending

3.BLOGGING


This is the most simplest way of online earnings. If you interested in content writing you must go with blogging. Write online unique and high quality content online through blogging you can earn between $ 100-1000 through blogging.


How can earn through blogging click here

राहुल द्रविड़ का टेस्ट रिकॉर्ड

राहुल द्रविड़ का टेस्ट क्रिकेट में अनोखा रिकॉर्ड

राहुल द्रविड़ भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों में से महान खिलाड़ी माने जाते हैं। उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में भारत की तरफ से काफी अच्छी पारियां खेली और रिकॉर्ड भी बनाए हैं इसलिए उन्हें भारत के भरोसेमंद दीवार कहा जाता था।

आज मैं आपको उनके एक अनोखी विक्रम की कहानी सुनाने जा रहा हूं।
टेस्ट क्रिकेट के 5 दिन मैदान में रहने का अनोखा विक्रम भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी राहुल द्रविड़ के नाम है।

यह घटना 2003 में ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच खेले गए गावस्कर बॉर्डर ट्रॉफी की है। मालिका के दूसरे टेस्ट में राहुल द्रविड़ पांचो दीन मैदान पर दिखाई दिए थे।

ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया। पहले दिन और दूसरे दिन का आधा खेल ऑस्ट्रेलिया खेला उसमें राहुल द्रविड़ फील्डिंग करते हुए दिखाई दिए।

जवाब में उतरी भारतीय टीम की सलामी जोड़ी लड़खड़ा गई और राहुल द्रविड़ पिच पर आए और उन्होंने पूरे दिन खेला तीसरे दिन भी उन्होंने लक्ष्मण के साथ साझेदारी करते हुए पूरे दिन वह पिच पर डटे रहे चौथ के दिन आधे दिन का खेल में भारत 523 रन पर ऑल आउट हो गया।

जवाब में ऑस्ट्रेलिया की टीम 196 रन पर और पर ऑल आउट हो गई। और सलामी बल्लेबाज आउट होने के बाद राहुल फिर से बल्लेबाजी को आए। इस प्रकार चौथे दिन भी पूरे दिन राहुल द्रविड़ मैदान में दिखे।

पांचवे दिन में वह आखिरी तक नाबाद रहे और भारत को जीत दिला दी ‌।

इस प्रकार टेस्ट क्रिकेट के पांचों दिन मैदान में रहने का राहुल द्रविड़ ने एक अनोखा विक्रम अपने नाम किया।

Bowl out नियम

Bowl out नियम

मर्यादित ओवर मैच जब टाई हो जाता था तब मैच का परीणाम निकालने के लिए bowl-out नियम का उपयोग किया जाता था।


Bowl out नियम में हर टिम को बारी-बारी पांच बार मौका दिया जाता था। हर टिम के पांच गेंदबाजों को एक बार स्टम्प को निशाना बनाना होता था। इसमें जो टिम सबसे ज्यादा निशाना लगाएगी वह विजेता मानी जाती थी।
Bowl out नियम का उपयोग सर्वप्रथम 2006 में न्यूजीलैंड बनाम वेस्टइंडीज खेली गई टी-20 मैच में हुआ था। जिसमें न्यूज़ीलैंड ने बाजी मारी थी।
2007 के विश्वकप टि-20 कप में भारत बनाम पाकिस्तान के लीग मैच भी इसका उपयोग हुआ भा। जिसमें भारत 3-0 से मैच जिता था।

सन 2008 में इस नियम को हटाके सुपर ओवर नियम लागू किया गया।

https://youtu.be/3xoBwYWdCrM

सूर्य नमस्कार – Stay healthy with confidence with 12 step!

अगर आपके पास व्यायाम करने के लिए समय नहीं है, लेकिन आप स्वस्थ और तरोताजा रहना चाहते हो तो सुर्य नमस्कार आपके लिए काफी फायदेमंद है। इसके लिए सिर्फ आपको दिन के पांच मिनट देने है।

सूर्य नमस्कार

सूर्य नमस्कार 12 आसनों से मिलकर बना है. इसलिए रोजाना सिर्फ सूर्य नमस्कार करना ही आपके पूरे शरीर को ऊर्जावान बनाता है और रोगों से भी दूर रखता है,जोकि अपने आप में पूरे शरीर का वर्कअाउट करने के लिए काफी है.

सुर्य नमस्कार करने के लाभ –


– पेट की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और उससे पाचन शक्ति बढ़ती है. 

– शरीर के ज्यादा वजन को कम करके शरीर को लचीला बनाने में मदद करता है।

– दिमाग को शांत करता है और आलस्य को दूर भगाता है. 

– इस व्‍यायाम को करने से शरीर में खून का प्रवाह तेज हो जाता है जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में सहायक होता है. 

– अगर आप बालों की समस्‍या से ग्रसित हैं तो यह योगा अभ्‍यास आपके बालों को असमय सफेद होने, झड़ने व रूसी से बचाता है.

– शरीर में ताजगी भरता है और मन को एकाग्र करने में सहायता करता है. 

– अगर आपको गुस्‍सा बहुत जल्‍दी आता है तो यह योग आपको  गुस्से को नियंत्रित करने में मदद करता है.

– जोड़ों को सुचारू रखने में भी सहायक है.
 
– यह योग करने से शरीर में लचीलापन बना रहता है,

जिससे पीठ और पैरों के दर्द में आराम मिलता है.

– शरीर को प्राकृतिक रूप से विटामिन डी मिलता है जो हड्डियों को मजबूत करने और आंखों की रोशनी बढ़ाने में फायदेमंद होता है.

– यह योग त्‍वचा के रोग खत्‍म करने में भी मददगार साबित होता है. 
– सूर्य नमस्कार पूर्व दिशा की तरफ मुंह करके ही करना चाहिए. 

इन बातों का रखें खास ध्‍यान –

सूर्य नमस्कार

– सूर्य नमस्कार करते समय शरीर की प्रत्येक क्रिया को ध्यानपूर्वक व आराम से करना चाहिए
.
– इस योग अभ्‍यास को शुरू करने से पहले योगा एक्‍सपर्ट की राय जरूर लें.

– सूर्य नमस्कार की तीसरी व पांचवीं स्थितियां सर्वाइकल एवं स्लिप डिस्क वाले रोगियों के लिए वर्जित हैं.

– अगर आप किसी गंभीर बीमारी से पीडि़त हैं तो एक आपके डाक्टर की सलाह जरूर लें।
. 
– सूर्य नमस्‍कार कम से कम पांच बार करना चाहिए लेकिन शुरुआत के समय आप इसे अपनी शारीरिक क्षमता के अनुसार करें. 

https://youtu.be/D81stN5QWpQ

पाकिस्तान के महान गेंदबाज जिन्होंने सर्वप्रथम सचिन तेंदुलकर को प्रतिभा को जाना था।

पाकिस्तान के महान गेंदबाज जिन्होंने सर्वप्रथम सचिन तेंदुलकर को प्रतिभा को जाना था। वह गेंदबाज थे पाकिस्तान के महान लेग स्पिनर अब्दुल कादिर।

सचिन तेंदुलकर भारतीय क्रिकेट का एक अनमोल हीरा है, लेकिन असली हीरे की पहचान जोहरी ही कर सकता है। सचिन तेंदुलकर के प्रतिभा को सर्वप्रथम पाकिस्तान के महान लेग स्पिनर अब्दुल कादिर ने पहचानी थी।
बात सन 1989 जब सचिन तेंदुलकर क्रिकेट में नये थे। पाकिस्तान में एक प्रदर्शनी सामना आयोजन किया गया था यह सामना पाकिस्तान के पेशावर में हुआ था बारिश के कारण यह सामना 30-30 ओवर का हुआ था।
भारत की ओर से के श्रीकांत और सचिन तेंदुलकर बैटिंग कर रहे थे और बॉलिंग पर थे उस समय के पाकिस्तान के महान लेग स्पिनर अब्दुल कादिर। अब्दुल कादिर ने पहला ओवर के श्रीकांत को मेडन डाला। कादिर के अगले ओवर में जब सचिन तेंदुलकर बैटिंग को आए तब सचिन की उम्र मात्र 16 साल की थी और वह कादिर के सामने एक बच्चे जैसे लग रहे थे। तब अब्दुल कादिर ने बोला कि यह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच नहीं है तुम खुलकर खेलो और मेरे बॉल पर छक्का मारकर दिखाओ तो तुम स्टार बन जाओगे। अब्दुल कादिर के ओवर में सचिन तेंदुलकर ने कुल 28 रन जोड़ दिए उसमें 4 छक्के और एक चौका शामिल था। कादिर की इस ओवर में सचिन ने 6,4,0,6,6,6 इस प्रकार रन जोड़े थे। दूसरे छोर के बोलिंग कर रहे मुस्ताक अहमद के गेंद पर भी सचिन तेंदुलकर ने चार छक्के जड़ दिए। इस मैच में सचिन तेंदुलकर ने मात्र 18 गेंदों पर 53 रन की पारी खेली थी। तब अब्दुल कादिर ने उन्हें कहा था कि तुम स्टार बनोगे यह बात खुद अब्दुल कादिर ने एक भारतीय न्यूज़ चैनल के इंटरव्यू में बताया था। आगे चलकर सचिन तेंदुलकर क्रिकेट जगत के वह महान बल्लेबाज बने।

POST LOCKDOWN ECONOMIC SLOWDOWN 2020 RELIEF PLAN – EPICSA

POST LOCKDOWN ECONOMIC SLOWDOWN 2020 RELIEF PLAN – EPICSA

Coronavirus pandemic lockdown may affect Indian economy. In this economic slowdown yours’ some conservative step may save you from this setback. This may help to rebuilt economy.

POST LOCKDOWN ECONOMIC SLOWDOWN 2020 RELIEF PLAN - EPICSA


EPICSA plans may be conservative steps towards post lockdown slowdown.

E – Environmental integrity
P –  Positive attitude
I – Investment
C – Consumption
S- Saving
A – Austerity

Environmental integrity –
Healthy environment makes you healthy. Try to avoid some things which may affect the environment and ecosystem 
e.g Avoid use of plastic, unnecessary use of vehicle.

Positive attitude –
because of lockdown economic slowdown may possible. But you have to prepare to face any situation. your positive attitude can work in any situation.  your positive attitude, make you able to deal any condition. So, be positive.

Investment –
Corona virus pandemic bring stocks market down by 40% . It means most of the stocks available at a discontented price. Try to invest in stocks market which allows your money to grow and help economy to recap because of inflow of money in market.
You can also in some governments scheme and bonds.

Consumption –
Our daily needs like food, Kirana etc. Better to give priority to Swadeshi goods.
FMCG company like ITC, Tata global and Patanjali are Swadeshi company which can fulfill your daily needs and kirana. Because of which your money flow in country which may help to increase GNP ( gross national product) in fact booster to GDP.

Saving —
Drop by drop makes an Ocean. Your small saving may help country to recap slowdown.
Avoid unnecessary and not important expenses which helped you to save some money. This saving can help economy through your investment.
Use bicycle or walking instead of vehicle at a walking distance work. This can help to save petrol, environment and economy as well. Avoid expenses like fashion, luxury and unnecessary electronic items which can save your money.

Austerity –
Austerity is a situation in which people’s living standards are reduced because of economic difficulties.
You have to cut some unnecessary expenses like petrol, fashion and cosmetic etc.. To deal with slowdown.

OURS CONSERVATIVE STEPS CAN BRING EPIC RELIEF POST LOCKDOWN ECONOMIC SLOWDOWN

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) – 2008 से 2019 तक पूरी जानकारी

IPL कि 2008 से 2019 तक की कहानी

इंडियन प्रीमियर लीग भारत का t20 श्रंखला है जो हर साल गर्मियों में भारत में खेला जाता है। इसकी शुरुआत 2008 में हुई और अभी तक इंडियन प्रीमियर लीग के 12 संस्करण खेले जा चुके हैं। सन 2020 का इंडियन प्रीमियर लीग कोरोनावायरस  के कारण रद्द कर दिया गया। इसमें कुल 8 टीमें हिस्सा लेती है जिसमें देशी-विदेशी क्रिकेट खिलाड़ी खेलते हैं।

सर्वाधिक खिताब जीतने वाली टीम-
मुंबई इंडियन टीम ने सर्वाधिक 4 बार आईपीएल क्रिकेट का खिताब जीता है। सन 2013,2015 ,2017 और 2019 में मुंबई इंडियंस चैंपियंस बनी थी।

सर्वाधिक उपविजेता टीम –
चेन्नई सुपर किंग सर्वाधिक पाच बार उपविजेता रही है।उसने सन 2008 , 2012 ,2013 ,2015 और 2019 में उपविजेता रही थी।

विजेता-उपविजेता टीम 2008 से 2019 तक
2008- राजस्थान रॉयल-विजेता, चेन्नई सुपर किंग- उपविजेता
2009- हैदराबाद डेक्कन चार्जर्स -विजेता , रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु उप विजेता
2010 – चेन्नई सुपर किंग्स विजेता,  मुंबई इंडियंस- उपविजेता
2011- चेन्नई सुपर किंग्स विजेता, रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु उप विजेता
2012 – कोलकाता नाइट राइडर्स -विजेता, चेन्नई सुपर किंग- उपविजेता
2013 – मुंबई इंडियंस- विजेता, चेन्नई सुपर किंग- उपविजेता
2014- कोलकाता नाइट राइडर्स -विजेता,  किंग इलेवन पंजाब – उपविजेता
2015 – मुंबई इंडियंस- विजेता, चेन्नई सुपर किंग- उपविजेता
2016 – सनराइजर्स हैदराबाद – विजेता,  रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु – उपविजेता
2017 – मुंबई इंडियंस- विजेता, पुणे राइजिंग सुपर्जायंट्स- उपविजेता
2018 –  चेन्नई सुपर किंग्स विजेता, सनराइजर्स हैदराबाद- उपविजेता
2019- मुंबई इंडियंस- विजेता, चेन्नई सुपर किंग- उपविजेता

नारंगी (orange) कैप पुरस्कार
इंडियन प्रीमियर लीग के एक संस्करण में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज को ऑरेंज कैप पुरस्कार दिया जाता है।
नारंगी (orange) कैप पुरस्कार जीतने वाले बल्लेबाज 2008 से 2019 तक –
2008 – ऑस्ट्रेलिया के शॉट मार्श किंग इलेवन पंजाब की ओर से खेलते हुए 2008 में 616 रन बनाए थे।
2009 – ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज मैथ्यू हेडन ने चेन्नई सुपर किंग की ओर से खेलते हुए 572 रन बनाए थे।
2010- भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने मुंबई इंडियन की ओर से खेलते हुए 618 रन बनाए थे।
2011 – वेस्टइंडीज के बल्लेबाज क्रिस गेल ने रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु की ओर से खेलते हुए 608 रन बनाए थे।
2012 – वेस्टइंडीज के बल्लेबाज क्रिस गेल ने रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु के भरत खेलते हुए 733 रन बनाए थे।
2013- ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज माइक हसी ने चेन्नई सुपर किंग्स और के खेलते हुए 733 रन बनाए थे।
2014- भारत के बल्लेबाज रॉबिन उथप्पा ने कोलकाता नाइट राइडर की ओर से खेलते हुए 660 रन बनाए थे।
2015-  ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डेविड वॉर्नर ने सनराइजर्स हैदराबाद की ओर से खेलते हुए 562 रन बनाए थे।
2016 – भारत के बल्लेबाज विराट कोहली ने रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु की ओर से खेलते हुए 973 रन बनाए थे।
2017 – ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डेविड वॉर्नर ने सनराइजर्स हैदराबाद की ओर से खेलते हुए 641 रन बनाए थे।
2018 – न्यूजीलैंड के बल्लेबाज केन विलियमसन ने सनराइजर्स हैदराबाद की ओर से  खेलते हुए 735 रन बनाए थे।
2019 – ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डेविड वॉर्नर ने सनराइजर्स हैदराबाद की ओर से खेलते हुए 692 रन बनाए थे।

ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डेविड वॉर्नर ने सर्वाधिक तीन बार सन 2015 2017 और 2019 में ऑरेंज कैप पुरस्कार जीता है।

पर्पल कैप पुरस्कार –
इंडियन प्रीमियर लीग के एक संस्करण में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज को पर्पल कैप पुरस्कार दिया जाता है।

पर्पल कैप पुरस्कार जीतने वाले गेंदबाज 2008 से 2019 तक
2008 – पाकिस्तानी गेंदबाज सोहेल तनवीर ने चेन्नई सुपर किंग की ओर से खेलते हुए 22 विकेट लिए थे।
2009 – भारतीय गेंदबाज आरपी सिंह ने  डेक्कन चार्जर्स हैदराबाद की ओर से खेलते हुए 23 विकेट लिए थे।
2010 – भारतीय गेंदबाज प्रज्ञान ओझा ने डेक्कन चार्जर्स हैदराबाद की ओर से खेलते हुए 21 विकेट लिए थे।
2011 – श्रीलंकाई गेंदबाज लसिथ मलिंगा ने मुंबई इंडियन की ओर के खेलते हुए 28 विकेट लिए थे।
2012 – दक्षिण अफ्रीका ए गेंदबाज मोर्ने मोर्कल ने कोलकाता नाइट राइडर की ओर से खेलते हुए 25 विकेट लिए थे।
2013- वेस्टइंडीज के ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो ने चेन्नई सुपर किंग की ओर से खेलते हुए 32 विकेट लिए थे।
2014 – भारतीय गेंदबाज मोहित शर्मा ने चेन्नई सुपर किंग की ओर से खेलते हुए 23 विकेट लिए थे।
2015 – वेस्टइंडीज के ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो ने चेन्नई सुपर किंग की ओर से खेलते हुए 26 विकेट लिए थे।
2016 – भारतीय गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने सनराइजर्स हैदराबाद की ओर से खेलते हुए 23 विकेट लिए थे।
2017- भारतीय गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने सनराइजर्स हैदराबाद की ओर से खेलते हुए 26 विकेट लिए थे।
2018 – ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाज एंड्रयू टाय किंग इलेवन पंजाब की ओर से खेलते हुए 24 विकेट लिए थे।
2019 – दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाज इमरान
ताहिर ने चेन्नई सुपर किंग की ओर से खेलते हुए 26 विकेट लिए थे।

वेस्टइंडीज के ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो ने सन 2013 और 2015 में और भारतीय गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने 2016 और 2017 में सर्वाधिक 2 बार पर्पल कैप पुरस्कार जीता है।

सर्वश्रेष्ठ व्यक्तिगत प्रदर्शन

एक संस्करण में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज –

2016 – भारत के बल्लेबाज विराट कोहली ने रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु की ओर से खेलते हुए 973 रन बनाए थे।

एक संस्करण में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज

2013- वेस्टइंडीज के ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो ने चेन्नई सुपर किंग की ओर से खेलते हुए 32 विकेट लिए थे।

एक पारी में सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर –

सन 2013 में वेस्टइंडीज के बल्लेबाज क्रिस गेल ने रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु की तरफ से खेलते हुए पुणे सहारा वारियर्स के खिलाफ 66 में 13 चौके और 17 छक्के की मदद से नाबाद 175 रन बनाए थे।

एक पारी में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज –

वेस्टइंडीज के गेंदबाज अलझरी जोसेफ ने मुंबई इंडियन के ओर से खेलते हुए सनराइजर्स हैदराबाद की खिलाफ 2019 के संस्करण में 12 रन देकर छह विकेट लिए थे।

इंडियन प्रीमियर लीग में अब तक सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज –
विराट कोहली -5412

इंडियन प्रीमियर लीग में अब तक सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज –
लासिथ मलिंगा – 170 विकेट

एक पारी में सर्वाधिक छक्के लगाने वाले बल्लेबाज –

2013 में वेस्टइंडीज के बल्लेबाज क्रिस गेल ने रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु की तरफ से खेलते हुए पुणे सहारा वारियर्स के खिलाफ 66 में 13 चौके और 17 छक्के की मदद से नाबाद 175 रन बनाए थे।

लॉक डाउन के सकारात्मक अनुभव

लॉग डाउन के दौरान हमने कुछ बिंदुओं पर सकारात्मक अनुभव महसूस किया है।

परिवार
पशु
वातावरण
समाचार
पुरानी यादें

परिवार – लाकडाउन के कारण परिवार में काफी सकारात्मक बदल देखने को मिला। हमारी महत्वकांक्षा और करीयर हमें परिवार से बहुत दूर लेकर गया था। हमने पैसा और अपने करियर के दम पर अपनी जरूरत तो पूरी कर ली आलीशान बंगले बना ए फ्लैट खरीद लिया लेकिन उसमें रहने वाले मनुष्य का रिश्ता निभाने का समय हमारे पास नहीं था। हम छुट्टियों के तीज त्यौहार के दिन हमारे घर में आते थे परिवार से मिलने ,लेकिन त्योहार मनाने के कारण हमारे पास परिवार के  लिए हमारे पास समय नहीं था। लेकिन लॉक टाउन ने यह करके दिखाया आज हमें हमारे परिवार को और उनके लोगों को बहुत करीब से जानने का मौका बहुत दिनों बाद मिला है। आज हम हमारे परिवार के साथ सुख दुख बांट रहे हैं उनकी परेशानियां समझ रहे हैं मैं तो क़रोना को धन्यवाद ही दूंगा क्योंकि इतना अमूल्य पल उन्होंने हमारे जिंदगी में हमको दिया। जब रामायण और महाभारत देसी मालिका एक टीवी पर आती थी तब हम बहुत छोटे थे और वह सिर्फ हमारे लिए एक मनोरंजन था लेकिन आज हम हमारे परिवार के साथ उसे देख रहे हैं और उस इस मालिका के कुछ मूल्य हमारे जीवन में उतारने की शिक्षा में मिली है।

पशु
जितना अधिकार मनुष्य का इस धरती पर है उतना ही अधिकार पशुओं का भी है लेकिन मनुष्य ने उनकी आजादी उनसे ऐसे छीन ली थी कि उनको सांस लेना मुश्किल हो गया था। एक ब्रिटिश कहावत है Man is beautiful creation of God , गॉड कि इससे ब्यूटीफुल क्रिएशन ने धरती की इतनी दयनीय अवस्था बना दी टिक पशुओं को उनका अधिकार छीन लिया उनकी आजादी छीन ली। लेकिन इस ब्लॉग डाउन ने मनुष्य को घर में बंद कर दिया जिसके कारण पशुओं आज अपनी आजादी से जी रहे हैं और धरती का नजारा एक खूबसूरत सा नजर आ रहा है। मांस मटन के नाम पर जिस निरपराध और बेकसूर प्राणियों की हत्या हो रही थी आज वह नहीं हो रही।

वातावरण-
मनुष्य की इच्छा और आकांक्षा हो धरती का वातावरण इतना दूषित बना दिया था कि सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। लेकिन लोग डाउन का समय पूरा हुआ भी नहीं 11 दिन में ही यह पता चल गया कि धरती का वातावरण दूषित करने के लिए जिम्मेदार कौन है?
इस 11 दिन में वातावरण इतना शुद्ध हो गया कि जालंधर से जालंधर से 250 किलोमीटर दूर हिमालय की पर्वत श्रंखला साफ दिखाई दे रही है।

समाचार-
आजकल न्यूज़ चैनल में सकारात्मक बातें कम और नकारात्मक बातें कही प्रसार ज्यादा हो रहा था जैसे कि महिलाओं का रेप, उनका शोषण दुर्घटनाग्रस्त वाहन। मनुष्य सोचता कि उनकी दिन की शुरुआत तक सकारात्मक हो लेकिन वह समाचार देखता तो उनके दृश्य में सबसे पहले यही चीजें आ रही थी। लोगों का ध्यान भटकाने के लिए भारत सरकार ने दूरदर्शन पर रामायण और महाभारत जैसे मालिक काहे का पुनः प्रसारण चालू कर दिया जिसके कारण लोग अपना समय अच्छी चीजों में बिताए।

पुरानी यादें
दूरदर्शन पर प्रसारित किए जा रहे रामायण और महाभारत जैसे बालिकाओं ने हमारी पुरानी यादें ताजा कर दी।